Dhara 370 क्या है 370 Article के बारे में पूरी जानकारी

370 Article नमस्कार मित्रों आपका Help Guru Group में स्वागत है आज हम आपको इस आर्टिकल में  dhara 370 kya hai इसके बारे में बताने वाले हैं हम आये दिन हम इसके बारे में सुनते रहते है पर हम में से कई लोगो को इसके बारे में पता नही होता की ये क्या होता है व इसे क्यु लगाया गया है आदि के बारे में आज हम आपको पूरी जानकारी हिन्दी में बताने वाले है।dhara 370जैसे‌ की आप जानते ही है की dhara 370 जम्मू कश्मीर से सम्बंधित है व इसके कारण आये दिन हम social media आदि पर विवादास्पद टिप्पणी सुनते रहते है व लोगों को देख कर हम भी टिप्पणी करते रहते है पर हमें इसके बारे में जानकारी होनी भी बहुत जरुरी है dhara 370 kya hai अगर आप पढाई करते है तो आपको किताबों में भी इसके बारे में जानकारी प्राप्त हो जाती है  व कई बार परीक्षा आदि में भी इसके बारे में सवाल पूछे जाते है जिसके सही उत्तर आप तभी दे पायेगे जब आपको इसके बारे में पूरी जानकारी होगी

Dhara 370 Kya Hai?

Article 370 Article 35A को 17 नवंबर 1952 को लागु की गयी थी जिसमें कश्मीर को एक विशेष राज्य का दर्जा दिया गया था इसमें कश्मीर के लोगों को अन्य कई सुविधाएँ मिलती है जो की अन्य किसी भी राज्य के लोगों को नही मिलती व  जम्मू कश्मीर का एक अलग संविधान है व वहाँ की कानुनी व्यवस्था भी उसी के अनुसार चलती है ना की भारत के संविधान के अनुसार

जब 15 अगस्त 1947 को भारत आजाद हुआ तब जम्मू कश्मीर भी आजाद हुआ था उस वक्त वहाँ के शासक राजा हरि सिह थे हरि सिह अपने शासन को आजाद रखना चाहते थे परन्तु 20 अक्टूबर 1947 पकिस्तान समर्थित आजाद कश्मीर सेना ने पाकिस्तान की सेना के साथ मिलकर कश्मीर पर युद्ध कर के ज्यादातर हिस्सा हथिया लिया था।

इन परिस्थितियों को देखते देखते हुए हरि सिंह ने अपने राज्य के बचाव के लिए शेख अब्दुल्ला  की सहमति से पंडित जवाहर लाल नेहरू के साथ 26 अक्टूबर 1947 को जम्मू कश्मीर को अस्थायी रुप से भारत के साथ विलय करने की घोषणा की थी व Instruments of Accession of Jammu & Kashmir to India पर अपने हस्ताक्षर किये थे व  बादमें जवाहर लाल नेहरू ने जम्मू कश्मीर मे शेख अब्दुल्ला को तत्कालीन मुख्यमंत्री के रुप में नियुक्त किया था।

Article 370 से सम्बंधित जानकारी

हम आपको article 370 से सम्बंधित कुछ महत्वपूर्ण व रोचक जानकरी बता रहे है जिसकी आपको जानकारी होनी बहुत जरुरी है

  1. जम्मू कश्मीर के लोगो के पास दोहरी नागरिकता होती हैं परन्तु अन्य राज्य के लोगो के पास के पास एक ही नागरिकता होती हैं।
  2. जम्मू कश्मीर का राष्ट्रीय ध्वज भारत के राष्ट्र ध्वज से अलग होता है।
  3. भारत के अन्य राज्य की विधानसभा का कार्यकाल 5 वर्ष का होता है जबकि जम्मू कश्मीर की विधानसभा का कार्यकाल 6 वर्ष का होता है।
  4. धारा 370 के कारण अगर कोई पाकिस्तानी जम्मू कश्मीर में रहता है तो उसे भारतीय नागरिकता प्राप्त होती जाती है जबकि अन्य राज्यों के लिए ये नियम लागु नही हैं।
  5. Article 370 के कारण अन्य राज्य के लोग कश्मीर मे जमीन नही खरीद सकते जबकि भारत में ऐसा कोई कानुन नही है।
  6. कश्मीर में अल्पसंख्यक हिन्दू व सिख को 16% आरक्षण नही दिया जाता जबकि भारत में अल्पसंख्यक को आरक्षण देने का प्रावधान होता हैं।
  7. जम्मू कश्मीर मे भारतीय राष्ट्र ध्वज व राष्ट्र प्रतिक का अपमान करना कोई अपराध नही होता पर अन्य राज्य में इसका अपमान करना एक बहुत बडा अपराध होता है।
  8. भारत के उच्चतम न्यायालय के कानुनी व नियम जम्मू कश्मीर राज्य पर लागु नहीं होते जबकि अन्य सभी भारत के राज्यों में लागु होते है
  9. जम्मू कश्मीर की महिलाओं पर शरियत कानुन लागु होते हैं।
  10. जम्मू कश्मीर की कोई लडकी भारतीय लडके से शादी करती है तो उसकी जम्मू कश्मीर की नागरिकता समाप्त हो जाती है व अगर वह लडकी पाकिस्तान के किसी लडके से शादी करती हैं तो उस लडके को भी जम्मू कश्मीर की नागरिकता दी जाती है।
  11. Dhara 370 होने के कारण जम्मू कश्मीर में आरटीआई (RTI) और सीएजी (CAG) आदि कानुन लागु नही होते

आप इस आर्टिकल के माध्यम से समझ चुके होगे की धारा 370 क्या होती है व इसे क्यु लागु किया गया था व इसके फायदे व नुकसान क्या क्या है 

Calculation – हमें उम्मीद है की आपको article 370 के बारे में बतायी गयी जानकारी जरुर पसंद आयी होगी व अगर आप dhara 370 kya hai सम्बंधित कोई सवाल पूछना चाहते है तो आप हमे comment कर के बता सकते है हम आपके सवालो का जल्दी जवाब देने की कोशिश करेगे व अगर जानकारी अच्छी लगे तो उसे social media पर share जरुर करें।

Leave a comment

Share via
Copy link