DISTRICT COLLECTOR KAISE BANE || जिला कलेक्टर कैसे बने

0

जिला कलेक्टर District Collector  kaise bane, collector kaise bane, district colletor monthly selery बनने की तैयारी करने से पहले‌ तो आपको एक बात सोच लेनी चाहिए की आप कलेक्टर क्यु बनना चाहते है क्यु की कई लोग पैसे कमाने के लिये District Collector बनने का सपना‌ देखते है पर ये लालच उनकी कामयाबी के सामने बहुत बडी‌ बाधा बन सकती हैं। अगर आप किसी भी समाज सेवा से जुडी नौकरी पाना चाहते है तो आपको ये ही सोचना होगा की आप वो नौकरी लोगो की मदद करने‌ के लिये पाना चाहते हैं और आपके‌ मन मे‌ उस नौकरी के आधार पर अमीर बनने की सोच नही होना चाहिए।

District Collector
आप इतना तो जानते ही है की चपरासी बनने के लिये भी इतनी मेहनत करनी पडती है तो District Collector बनने के लिए आपको कितनी मेहनत करनी होगी क्यु की इस‌ समय कॉम्पिटिशन का‌ जमाना है और ऐसे मे नौकरी पाना बहुत मुश्किल है साथ‌ मे आपको ये भी याद रखना चाहिए की आप सिर्फ अधिक पढाई कर के ही सरकारी नौकरी नही पा सकते इसके लिये आपको सही मार्गदर्शन मिलना भी बहुत आवश्यक हैं।

District Collector बनने के लिये योग्यता

➲ उम्मीदवार का किसी भी मान्यता प्राप्त विश्वविद्यालय से स्नातक ( graduation ) पास होना आवश्यक हैं।

➲ उम्मीदवार का‌ भारतीय होना‌ आवश्यक है

➲ उम्मीदवार जानलेवा बिमारी से ग्रस्त नही होना चाहिए।

➲ उम्मीदवार की न्युनतम आयु 21 वर्ष या इससे अधिक होनी आवश्यक हैं।

  1. BSF Join Kaise Kare
  2. Govt Teacher Kaise Bane
  3. Bank Manager Kaise Bane
  4. Forest Officer Kaise Bane
  5. Constable Kaise Bane

जिला कलेक्टर की परीक्षा देने के लिये उम्र सीमा

सभी‌ सरकारी नौकरी के लिये उम्र सीमा अलग अलग रखी गयी है व जिला कलेक्टर बनने के लिये उम्र सीमा विभिन्न वर्गो के लिए अलग अलग रखी गयी है

  1. GENERAL – 21 से 32 वर्ष
  2. OBC – 21 से 32 वर्ष ( 3 वर्ष की छूूूट )
  3. ST/SC – 21 से 32 वर्ष ( 5 वर्ष की छूूूट )
  4. PHYSICALLY DISABLE – 21 से 42 वर्ष
  5. ST/SC PHYSICALLY DISABLE – 21 वर्ष से असीमित समय तक

जिला कलेक्टर बनने के लिये परीक्षा

जिला कलेक्टर बनने के लिये आवेदन युनियन पब्लिक सर्विस कमीशन UPSC द्वारा निकाले जाते है व इसकी परीक्षा भी इसी  के द्वारा करवाई जाती है व इसके‌ लिए UPSC द्वारा ( all India civil service exam ) परीक्षा करवाई जाती है जिसे sort में CSE भी कहते है इसकी परीक्षा एक साल मे‌ एक बार करवाई जाती हैं।

इस परीक्षा मे‌ टॉपर रहे उम्मीदवारो को योग्यता अनुसार अलग अलग post के लिये चुना जाता है जिसमे कलेक्टर, कमिश्नर, सेक्रेटरी आदि  कई post होती हैं।

जिला कलेक्टर बनने‌ का तरीका

अगर आपको ज़िला कलेक्टर बनना है तो आपको ये बात जरुर याद रखनी‌ चाहिए की आपको इसके लिये 3 stage मे परीक्षा पास करनी होती है उसके बाद आपकी जिला कलेक्टर की ट्रेनिंग शुरू करवाई जाती है

1. PRELIMINARY EXAM – प्रारम्भिक परीक्षा

यह प्रथम‌ परीक्षा होती है जो की काबिल उम्मीदवारों को और अन्य उम्मीदवारो को छाटंने का काम करता है इस परीक्षा मे सफल होने वाले लोगो को ही अगले exam के लिये चुना जाता है। ( यह परीक्षा जुलाई से अगस्त के मध्य होती है ) ये प्रथम परीक्षा होती है व आवेदन करने के बाद आपको ये परीक्षा देनी होती हैं।

2. MAIN EXAM ( मुख्य परीक्षा ‌)

यह परीक्षा प्रारम्भिक परीक्षा मे सफल घोषित हुए उम्मीदवारों के लिए करवायी जाती है जिसमे वो ही उम्मीदवार भाग ले सकते है जो प्रारम्भिक परीक्षा मे सफल घोषित होते है इस वजह से ये परीक्षा थोडी कठिन होती है इसमे सभी योग्य उम्मीदवार ही भाग ले पाते है ( यह परीक्षा दिसम्बर से जनवरी के मध्य होती है )

3. INTERVIEW – ( साक्षात्कार )

ये जिला कलेक्टर बनने‌ का‌ अन्तिम stage होता है जब उम्मीदवार प्रारम्भिक परीक्षा व मुख्य परीक्षा मे सफल‌ घोषित होने के‌ बाद उसे interview के‌ लिए बुलाया जाता है व इसमे कुछ अधिकारी हमारे सामने‌ बैठ कर कुछ जानकारी लेते‌ है व कुछ सवाल पुछते है हम उनको किस तरह से जवाब देते है उसके आधार पर इसमे नम्बर दिये जाते है व जिला कलेक्टर की ट्रेनिंग के लिये चुना जाता हैं।

दोस्तो अगर आपको हमारी जानकारी अच्छी लगी हो तो इस जानकारी को अधिक से अधिक ‌share करे व किसी भी जानकारी के लिये हमे comment कर सकते हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here