Kisan Net – किसान नेट क्या है व गन्ना पर्ची कैलेंडर कैसे देखते है

उत्तर प्रदेश राज्य देश के सबसे अधिक आबादी वाले राज्य में से एक है! लेकिन आज भी गन्ना किसानों कि दयनीय स्थिति में अधिक परिवर्तन नहीं हुआ है! kisan net के द्वारा ganna parchi calendar की एक बेहद उपयोगी सेवा सरकार द्वारा शुरू की  गयी है जिसके बारे में हम आपको बताने वाले है 

kisan net




हालंकि सरकार द्वारा किसानों के फायदे हेतु कुछ कदम उठाए हैं, जैसे कि गन्ना का उत्पादन करने वाले किसानों का समर्थन मूल्य बढ़ाया गया है। साथ ही किसानों की दूसरी अहम समस्या गन्ना पर्ची कैलेंडर ना मिलने की वजह से जो उनकी फसल को नुकसान पहुंचता था उसके लिए भी सरकार द्वारा फैसले लिए गए हैं।

लेकिन दोस्तों गन्ना पर्ची कैलेंडर होता क्या है? कई सारे नए पाठकों को यह जानकारी नहीं होगी! तो उनकी इस दुविधा को दूर करने के लिए हम सबसे पहले जान लेते हैं

गन्ना पर्ची कैलेंडर होता क्या है?

किसानों द्वारा प्रतिवर्ष खेतों में गन्ने का उत्पादन बड़ी मात्रा में किया जाता है। जिसे देखते हुए चीनी मिलें सभी गन्ना किसानों के खेतों में जाकर उनकी फसलों का ब्यौरा लेती हैं! जिसके बाद वह चीनी मिल अपनी क्षमता के मुताबिक किसानों से उनका गन्ना खरीदने को कहती है।

लेकिन चूंकि बड़ी संख्या में किसान गन्ने का उत्पादन करते हैं! इसलिए एक ही दिन और एक ही समय में गन्ना खरीदना किसी चीनी मिल के लिए संभव नहीं है, जिसे निपटने के लिए चीनी मिल द्वारा सभी किसानों को एक पर्ची बांटी जाती है।

इस पर्ची में किसानों के फसल की जानकारी का रिकॉर्ड होता है! जिसमें फसल को खरीदने की तारीख भी इसमें लिखी होती है। तो एक बार गन्ना पर्ची मिल जाने से किसान के लिए थोड़ा राहत हो जाती है। और प्रची में जिस डेट में उनके फसल की तौल की तारीख लिखी होती है उसी दिन किसान को उस मिल पर जाकर अपना गन्ना बेचना पड़ता है।

तो दोस्तों इस तरह आप समझ चुके होंगे कि आखिर गन्ना पर्ची होती क्या है? लेकिन जो गन्ना पर्ची कैलेंडर होता है इसमें प्रत्येक साल का ब्यौरा होता है जैसे कि इसमें ही वह सभी जानकारियां होती हैं कि किस किसान ने कितना गन्ना बेचा? उस किसान को उसके गन्ने की पूरी पेमेंट मिली या नहीं और किसान के पास अभी गन्ना उत्पादन के लिए कितनी भूमि शेष है यह जानकारी गन्ना पर्ची कैलेंडर के माध्यम से मिल जाती है।

उत्तर प्रदेश में हैं कुल 119 चीनी मिलें

जी हां देश के सबसे अधिक आबादी वाले राज्य उत्तर प्रदेश में 119 से चीनी मिलें इस समय हैं! और अलग-अलग जिलों के आधार पर इन चीनी मिलों में जाकर किसानों द्वारा गन्ने की आपूर्ति की जाती है! लेटेस्ट रिपोर्ट्स के अनुसार उत्तर प्रदेश में लगभग 42 लाख गन्ना किसान हैं

और इन गन्ना किसानों द्वारा चीनी मिलों को गन्ने की आपूर्ति सहकारी गन्ना विकास समिति जिनकी संख्या कुल 169 है, एवं चीनी मिल समिति जो की टोटल 14 हैं द्वारा उत्तर प्रदेश में की जाती है ।

बता दें! प्रत्येक चीनी मिल हर साल एक टाइम पीरियड में पेराई फैशन चलाती है! और यह वह समय होता है जब किसानों से गन्ने की आपूर्ति की जाती है और इस कार्य में सहयोग के लिए एक सट्टा नीति बनाई गई है। तो अब हम सट्टा नीति के बारे में समझें उससे पहले आपको बता दें हर किसान एक बेसिक कोटा समितियों द्वारा तय किया जाता है और इसकी गणना भी समितियों द्वारा की जाती है।

सट्टा नीति क्या है?

वे सभी किसान जो इन समितियों के सदस्य तौर पर इनसे काफी लंबे समय से जुड़े होते हैं! उनके लिए समितियां सट्टा निर्धारित करती हैं अब यह सट्टे से हमारा मतलब यह है कि मिलों को जो गन्ना सौंपा जाता है उसका निर्धारण करना! इस कार्य के लिए समितियों की तरफ से किसानों की भूमि तथा उनकी फसल का आकलन किया जाता है और किसानों द्वारा अवेलेबल की गई जानकारी के आधार पर सट्टा निर्धारित होता है।

उसके बाद मिल द्वारा किसानों को पर्ची जारी की जाती है और इस पर्ची की मदद से ही किसान अपना गन्ना मिल को बेच पाते हैं। किसानों से गन्ने को उचित दाम में खरीदने के लिए सरकार द्वारा अनेक क्रय केंद्र भी स्थापित किए गए हैं जहां पर किसान दी गई पर्ची को दिखाकर अपना गन्ना बेच सकता है।

kisaan.net क्या है

दोस्तों यदि आप गन्ना पर्ची कैलेंडर देखना चाहते हैं! तो आपको kisaan.net वेबसाइट के बारे में भी जानना जरूरी हो जाता है। यह वेबसाइट उत्तर प्रदेश के सभी गन्ना किसानों के लिए बनाई गई है, सभी गन्ना किसान इस वेबसाइट पर अपना गन्ना सप्लाई कर अपने गन्ने से जुड़ी सारी जानकारियां प्राप्त कर सकते हैं।

बता दें पहले समितियों के मिल खुलने के 4 दिन पहले ही यह सूचित कर दिया जाता था और वहीं पर गन्ना पर्ची कैलेंडर मिल द्वारा समितियों को गन्ना पर्ची कैलेंडर देती थी। लेकिन आज के समय में पर्ची न मिलने की वजह से कई किसानों की फसलें बर्बाद हो जाती है। जिसे देखते हुए राज्य सरकार द्वारा ऑनलाइन गन्ना पर्ची कैलेंडर के लिए एक वेबसाइट शुरू की है जिसका नाम है www.kisaan.net

इस वेबसाइट पर आप अपने गांव का कोड और अपना कोड enter कर अपनी सारी जानकारी गन्ना फसल से जुड़ी इंटरनेट पर देख सकते हैं! और उसका प्रिंट भी निकाल सकते हैं यह पूर्ण आपको आपकी गन्ना पासबुक में मिल जाएगी।

आप एक किसान है तो बता दें यह सारे आंकड़े चीनी मिलों से लिए जाते हैं! और यदि आपकी चीनी मिल यहां दी गई लिस्ट में नहीं होती है तो आप अपने सोसायटी सचिव जिला गन्ना अधिकारी से भी कांटेक्ट कर सकते हैं! और उनसे आप इसकी रिक्वेस्ट कर सकते हैं ताकि आपकी वाली शुगर मिल का डाटा kisaan.net के पास अवेलेबल किया जाए।

लेकिन अभी हाल ही में 2020 में यह लेटेस्ट अपडेट सुनने को मिल रहा है कि kisaan.net वेबसाइट पर गन्ना पर्ची कैलेंडर नहीं दिखाया जा रहा है! तो ऐसे में कई सारी किसान भाई जो इससे परेशान हो चुके हैं उनके लिए हम गन्ना पर्ची कलैंडर का लेटेस्ट तरीका शेयर कर रहे हैं, जिससे आप गन्ना पर्ची कैलेंडर देख सकते हैं।

2020 में गन्ना पर्ची कैलेंडर कैसे देखें?

अब हम आपको गन्ना पर्ची कलेण्डर कैसे देखा जाता है इसके बारे में बता रहे है जिससे ,की आप आसानी से गन्ना पर्ची देख सकते है 

1 Visit Official Website

सबसे पहले अपने डिवाइस में kisan.net इस वेबसाइट को ओपन कीजिए!

ganna parchi

इस वेबसाइट पर आने के बाद आपको नीचे की ओर scroll करने पर एक picture दिखेगी जिसमें आंकड़े देखें का एक बटन होगा उस पर क्लिक करें।

2. Fill Captcha

अब आपके सामने फिर से एक new page ओपन होगा। इसमें आपको डाटा देखने के लिए कैप्चा डालें! ऑप्शन पर कैप्चा सही-सही फिल करना है और उसके बाद view बटन पर क्लिक करे

kisan net

3. Fill Details

अब new पेज ओपन होने के बाद यहां पर आपको अपना गन्ना पर्ची कैलेंडर देखने के लिए कुछ डिटेल डालनी होगी! जिसमें पहला ऑप्शन UGC का है यदि आपको अपना UGC पता है तो यहां इस बॉक्स में टाइप करें।kisaan netयदि आपको UGC नहों पता तो साथ में एक district (जिला) का ऑप्शन दिया गया है,यहाँ से आप अपने डिस्ट्रिक्ट को सेलेक्ट कर लीजिए।

4. Select Fectory

district select करते ही पेज refresh हो जाएगा! और यहां पर फैक्ट्री के ऑप्शन पर आपके डिस्ट्रिक्ट में जितनी भी फैक्ट्री हैं उनके नाम आ जाएंगे! अब आप अपनी फैक्ट्री को सेलेक्ट करें।select fectoryफिर से पेज लोड होगा और अब आपको यहां पर village के ऑप्शन पर जाकर अपने village को सेलेक्ट कर लेना है!

5. Search Name

अब आपके सामने एक select Gro का ऑप्शन आ जाएगा इस ऑप्शन पर क्लिक करते ही आपके गांव में जितने भी किसान होंगे उनकी जानकारी आ जाएगी! तो अब आप इस लिस्ट में अपना नाम खोज कर select कर लीजिए।ganna parchi app

6. Confirm Details

जैसे ही आप अपने नाम को select करते हैं! तो अब आपके सामने पेज रिफ्रेश होता है और अब आप अपना नाम,मोबाइल नंबर, अकाउंट नंबर इत्यादि डिटेल चेक कर सकते हैं कि आपकी सही जानकारी है या नहींkisan net app

7. Click Ganna Calendar

उसके बाद नीचे यहां पर कुछ ऑप्शन दिए गए हैं जिनमें से आपको गन्ना कैलेंडर ऑप्शन पर क्लिक कर देना है।

kisaan net
आपके सामने फिर से नया पेज लोड होगा और इसमें आप आप अपने पर्ची कैलेंडर को देख सकते हैं।

दोस्तों इस प्रकार आपने आज जाना ganna parchi calendar क्या है? कैसे गन्ना पर्ची कैलेंडर को देखें? उम्मीद है यह जानकारी आपको बहुत पसंद आएगी! तो आप इसे अन्य गन्ना किसान भाइयों के साथ भी जरूर शेयर करें।

यह पोस्ट मोहित नेगी द्वारा लिखी गयी है जिनका blog  kaisekartehai है आप इसपर visit कर के बेहतरीन आर्टिकल पढ़ सकते है

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here