Poem in Hindi For Love – Love शायरी हिन्दी में

Poem in Hindi For Love नमस्कार मित्रों आपका help guru group में स्वागत है आज हम आपको बेहद शानदार Hindi poem बताने वाले हैं जिसको आप अपने मित्रों व रिश्तेदारों को भेजकर ज्नके मन में अपने प्रति प्यार बढा सकते है हमने पहले भी कई poem लिखी थी उसमे बाद लोगो ने love पर poem लिखने की request की जिसके कारण आज हम ये poem लिख रहे हैं।Poem in Hindi For Love

आपने internet पर बहुत सी poem देखी होगी पर आज हम आपको जो  Poem in Hindi For Love के बारे मे बताने वाले है वैसी poem शायद आपने पहले कभी नही पढी होगी व आप‌ इन poem को अपने प्रेमी को भेज के उस के मन मे अपने प्रति प्यार व विश्वास भी बढा सकते हैं।

Poem in Hindi For Love

-: 1 :-

क्यों कहूँ तुझसे की मोहब्बत ना करुगा किसी से

कहने को वैसे भी बचा ही क्या है जो बाद करु किसी और से

हर वक्त हर लम्हा गुजरे जो जिंदगी

तेरी तरह तेरे जैसे कोई लगा ले‌‌ मुझे गले‌

क्या खुद जा कर कह सकता हूँ किसी को

कर भी दू वैसा जैसा तुम करती थी मेरे लिए

पर वो प्यार भरी बाते जो लबो पर थी मेरे तेरे लिए

क्या वो में किसी और को जा कह पाऊगा

ना कर उम्मीद मेरे हसने और रोने की तेरे जाने के बाद

तेरी बेवफाई की बाते क्या अब कर पाऊगा किसी और से

में जानता हूँ तुम अब भी प्यार करती हो मुझसे

पर तुम्हारे जाने के बाद क्या दिल की बात कह पाऊगा किसी और से

इंतजार है की लौट कर आओगी मेरी जिंदगी तुम

क्या तुम‌ लौटकर आऑगी ये कह पाऊगा में किसी और से

-: 2 :-

अगर इश्क कोई गुनाह है तो इसके सजा हमें मिले

क्युँकि इश्क भी हमने किया

इजहार भी हम ने किया

और इंतजार भी हम ने किया

वो तो दुर खडी तरीफ सुन रही थी अपनी

पर धोखे से प्यार भी तो उसे हमने सोचा हैं।

-: 3 :-

हंसी  आती है खुद पर

जब अनजान जगह पर भी तेरे होने का अहसास होता है।

हंसी आती हैं खुद पर

जब अनजान फोन भी तुम्हें सोच के उठाता हूँ

हंसी आती है खुद पर

जब खुद से भी ज्यादा तेरा नाम लिखता हूँ

हां मानते‌ है हम की तुम किसी और की हो

पर आज भी हम तुम्हारा बेहद इंतजार करते हैं।

-: 4 :-

ये खुदा है ये‌ इश्क है या कुछ और

हमने उनको चाहा पर कभी बता ना पाये

हमने खुद से ज्यादा प्यात किया था

पर उन्हें महसूस तक नही हुआ।

हमने हर वो चीज दी‌

पर कभी वादे ना कर सके

उन्होंने पुकारा भी तो किसी और को

पर हम‌ कभी उनका दिल‌ ना तोड सके

-: 5 :-

खुदा से ना पूछ ऐ पगली की में तुजे कितना चाहता हूँ

तेरे जाने के बाद तो में खुदा को भी भुल चुका हूँ

भले ही तुने अपनी औकात दिखा दी

मगर में पहले‌ की तरह अब भी तुम्हारे इंतजार में खडा हूँ

-: 6  :-

एक बार प्यार कर ले

झूठा ही सही

आखिरी बाद दीदार कर ले

झूठा ही सही

एक बार आ जा मेरे घर पर

खुशी से और सुन ले

की‌ मैं हूँ या हूँ ही नहीं

-: 7  :-

दिल तो रोक लेता हूँ

पर आँसू कैसे नहीं रोक पाता

आँसू पोछ लेता हूँ

तो जुबान बोलने लगती हैं।

जुबान को खामोश कर लेता हूँ

क्युँकि ये कहीं ये ना कह दे

में तुझे अब भी प्यार करता हूँ

मित्रों हमें उम्मीद है की आपको हमारे द्वारा लिखा गया आर्टिकल Poem in Hindi For Love जरुर पसंद आया होगा व अगर आप इससे सम्बंधित कोई राय देना चाहते है तो आप हमे  comment कर सकते हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here